हॉरर स्टोरीज

Darawni Kahaniya Hindi Mai प्रेत आत्मा का बदला

Darawni Kahaniya Hindi Mai प्रेत आत्मा का बदला

हेलो दोस्तों मेरा नाम राजेश है में दिल्ली का रहने वाला हूँ, आज जो में ये घटना आपको सुनाने जा रहा हूँ, ये मेरी खुद की ही कहानी है. जो कुछ भी मेरे साथ हुआ, उसे में आज आपके साथ शेयर करूँगा, ये बात करीब 8 साल पुरानी है, उन दिनों में नोकरी की तलाश में घूम रहा था,

बहुत मसक्कत के बाद मुझे नोकरी मिल गई जिस ऑफिस में,मैं काम करता था, उसी ऑफिस में एक लड़की भी काम करती थी, जिसका नाम काजल था पहली नजर में ही मुझे उससे प्यार हो गया काजल भी मुझे पसंद करने लगी.

हम दोनों में काफी बातें होती और काफी वक़्त हम एक साथ बिताने लगे, धीरे-धीरे हमारे  बीच इतना गहरा प्यार हो गया की हमने शादी करने का फैसला कर लिया.

काजल के मम्मी-पापा इस दुनिया में नहीं थे, और मेरे मम्मी पापा भी मुझे 10 साल की उम्र में इस दुनिया को छोड़कर जा चुके थे, दोनों की ही तरफ से शादी की बात करने के लिए कोई नहीं था, हम दोनों बहुत खुश थे.

की अब हमें एकदूसरे से दूर नहीं रहना होगा, लेकिन भगवान को शायद कुछ और ही मंजूर था, कुछ दिन बाद हमारे ऑफिस में एक लडकी जॉब के लिए आई,

और बॉस ने उसे कल से ड्यूटी ज्वाइन करने के लिए कह दिया उसका नाम सीमा था, धीरे-धीरे सीमा काजल और मेरी अच्छी दोस्त बन गई हम सबकुछ  एक दूसरे से शेयर करते थे, फिर एक दिन की बात है.

Darawni Kahaniya Hindi Mai प्रेत आत्मा का बदला

काजल की तबियत ख़राब हो गई मैंने ऑफिस पहुँच कर काजल को फ़ोन किया, की तुम अभी तक ऑफिस क्यूँ नहीं आई ?

उसने बताया मुझे ”बुखार” हो गया है, इसलिए में आज ऑफिस नहीं आ पाऊँगी तो मैंने कहा फिर,मेरा दिल केसे लगेगा में भी घर चला जाता हूँ.

तुम नहीं होगी यहाँ तो मेरा काम में भी मन नहीं लगेगा काजल ने कहा नहीं तुम घर मत जाओ सीमा तो है ना वहां, तुम सीमा से बीच-बीच में बात कर लेना, मैंने कहा नहीं में तो जा रहा हूँ सीमा सीमा है काजल तो नहीं है ना? मैंने थोडा गुस्सा जाहिर करते हुए काजल से कहा.

काजल ने भी प्यार जताते हुए कहा, थोड़े दिन बाद हम शादी करेंगे तभी काफी छुट्टी हो जाएँगी, प्लीज अभी तुम छुट्टी मत करो, बीवी की बात नहीं मानोगे क्या तुम, कहते हुए काजल हसने लगी, मैंने कहा ठीक है बीवी जी, अब तो आपकी बात माननी ही पड़ेगी और फिर हम दोनों हँस दिए, वाकई हम दोनों शादी को लेके बहुत खुश थे.

मन में ना जाने क्या-क्या सोच रहे थे, की शादी के बाद ऐसा करेंगे वैसा करेंगे, लेकिन वो कहतें हैं ना, सोची हुई बात कभी पूरी नहीं होती, जो आप सोचते हैं हमेशा उसका उलटा ही होता है, और मेरे साथ भी वेसा ही हुआ.

एक दिन बॉस ने मुझे अपने केबिन में बुलाया और कहा” तुम्हे आज ही मुंबई जाना है, तुम्हारा जाना बहुत जरुरी है, नहीं गए तो हमारा बहुत नुकशान हो जायेगा, मैंने कहा सर आप किसी और को भेज दीजिये मुझे कुछ जरुरी काम है.

फिर बॉस ने मुझे प्रमोशन का लालच दिया और कहा की अगर तुम मुंबई चले गये तो तुम्हारा promotion पक्का, अब में सोच में पड गया की उधर काजल की तबियत भी ख़राब है इधर promotion दोनों ही चीजें  लिए जरुरी है.

यह भी पढ़ें:

एक डरावनी सच्ची कहानी जो आपके होश उड़ा देगी

जब मेहंदीपुर वाले बालाजी ने दिलाई प्रेत-आत्माओं से मुक्ति

मैंने काजल को फ़ोन किया  ”हेलो काजल” अब तबियत कैसी है ? ”काजल ने कहा” पहले से आराम है पर अभी पूरी तरह से ठीक नही है कमजोरी बहुत आ गई है., ”तुमसे एक बात करनी थी काजल” हाँ बोलो ना?

बॉस ने मुझे मुंबई जाने के लिए कहा है. लेकिन में कैसे जाऊ, इधर तुम्हारी तबियत ख़राब है.

और उधर बॉस ने मुझे प्रमोशन का भी वादा किया है, मेने उदास भरे लहजे में काजल से कहा. ”तब काजल खुश होकर बोली” अरे कितनी अच्छी खबर सुनाई, और इतनी अच्छी खबर को उदास होकर क्यूँ सुना रहे हो.

तुम चले जाओ अब इतनी भी ख़राब नहीं है मेरी तबियत की तुम आकर मेरे पास मुझसे चिपक कर बैठ जाओ. कहते हुए काजल हँसी को दबाये मुझे चिड़ाने लगी.

Are यू Sure तुम्हारी तबियत ठीक है ?  अरे हाँ बाबा कहा तो है मैंने की में ठीक हूँ, बस थोड़े आराम की जरूरत है ओके काजल थोड़ी कराही सी आवाज में बोली,

मैंने कहा चलो ठीक है फिर में चला जाता हूँ तुम्हे कुछ भी परेशानी हो तो सीमा को अपने पास बुला लेना और हाँ मेरे मुंबई से आते ही हम शादी कर लेंगे अब में तुमसे और दूर नहीं रह सकता, जबाब में काजल ने कहा, में भी नहीं रह सकती.

अगली सुबह में ट्रेन से मुंबई के लिए रवाना हो गया, शाम को मुंबई पहुँच कर मैंने काजल को फ़ोन लगाया, लेकिन उसका फ़ोन स्विच ऑफ आ रहा था,

मैंने 3-4 बार डायल किया लेकिन फ़ोन स्विच ऑफ ही आ रहा था, में काजल से बात किये बिना एक दिन भी नहीं रहता था.

जब काजल का फ़ोन नहीं लगा, तो मुझे बैचनी होने लगी तभी मुझे याद आया, की क्यूँ ना सीमा को फ़ोन करके उससे कहूँ, की तुम काजल के घर चली जाओ और मेरी उससे बात करा दो, सोचते हुए मैंने सीमा का नंबर डायल किया 1-2 रिंग होने के बाद ही सीमा ने फ़ोन उठा लिया

आप पढ़ रहे है : Darawni Kahaniya Hindi Mai प्रेत आत्मा का बदला

”हेलो” सीमा यार में बहुत परेशान हूँ काजल का फ़ोन बंद आ रहा, क्या तुम मेरी काजल से बात करा सकती हो, प्लीज, उसने कहा ठीक है में अभी जाती हूँ. और उसने फ़ोन कट कर दिया.

में सीमा के फ़ोन का बेसब्री से, इन्तेजार कर रहा था. तभी फ़ोन की रिंग बजी सीमा का फ़ोन आया, उसने जो कहा उसे सुनकर तो में और भी परेशान हो गया.

उसने बताया की काजल तो अपने घर पर है ही नहीं. उसके घर पर ताला लगा हुआ है, मैंने आस-पास भी पता किया लेकिन किसी को काजल के बारे में कुछ पता नहीं हैं, शायद वो अपने किसी रिश्तेदार के घर गई हो, तुम परेशान मत हो कहते हुए सीमा मेरा होसला बढाने लगी.

में बहुत ही परेशान था मुझे रात में बुरे-बुरे ख्याल आने लगे जिसकी वजह से में पूरी रात सो नहीं पाया, सुबह होते ही पहली ट्रेन से में दिल्ली के लिए निकल गया, और सीधा काजल के घर गया, जहाँ पर ताला लगा हुआ था! पड़ोस में पता किया तो कुछ पड़ोसियों ने बताया की कल दिन में तो काजल अपने घर पर ही थी.

Darawni Kahaniya Hindi Mai प्रेत आत्मा का बदला

इससे ज्यादा हमें कुछ नहीं पता फिर में सीमा के घर गया सीमा अंदर से आई और ”बोली की काजल का कुछ पता चला” नहीं मैंने हर जगह ढूंडा हर किसी से पूंछा लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला कहाँ गई मेरी काजल.

कहते हुए में रोने लगा सीमा मुझे समझाते हुए बोली की तुम चिंता मत करो काजल जल्दी ही मिल जाएगी जाएगी, सप्ताह बीते महीने और फिर साल लेकिन काजल का कहीं कुछ पता नहीं चला , इस बात को 2 साल हो चुके थे.

में काजल की यादों को दिल में लिए बस जिए जा रहा था, लेकिन उसकी याद मुझे हर पल सताती उसका मुझे वो छेड़ना बात-बात पे बीवी जैसे डांटना, उसकी यादें मुझसे भुलाये नही भूली जा रहीं थी.

ऑफिस में सबसे बात करना भी बंद कर दिया था. मेरी दुनिया तो जैसे वीरान ही हो गई थी, क्यूंकि काजल ही मेरी दुनिया थी, ये बात वही जानता है. जिसने कभी किसी से दिल से प्यार किया हो, फिर एक दिन की बात है में कैंटीन में बैठा काजल की यादों में खोया हुआ था.

तभी वहां मेरे ऑफिस का एक दोस्त नरेश मेरे पास आकार बैठा, और उसने मुझसे कहा तुम कब तक काजल की यादों में खोये रहोगे मेरे ख्याल से अब तुम्हे शादी कर लेनी चाहिए.

मैंने कहा नहीं मैंने काजल के अलावा किसी और को अपनी जिंदगी में कभी सोचा ही नहीं, तो उसने कहा किसी के चले जाने से जिंदगी रूकती नहीं मेरे दोस्त क्या पता तुम शादी कर लो तो, काजल को भी तुम्हारा ये फैसला अच्छा लगे वो जहाँ भी होगी तुम्हारे इस फेसले से बहुत खुश होगी.

और हाँ मेरी नजर में तुम्हारे लिए एक बहुत ही अच्छी लड़की है जो, तुम्हे पसंद भी बहुत करती है, मैंने चोंक कर पूंछा कौन है वो लड़की” तो नरेश ने सीमा को मेरे सामने लाकर खड़ा कर दिया.

Darawni Kahaniya Hindi Mai प्रेत आत्मा का बदला

”सीमा तुम” हम तो दोस्त हैं ना  में झिझकती हुई आवाज में बोला, फिर सीमा ने कहा क्यूँ रमेश?

क्या दो दोस्तों के बीच प्यार नहीं हो सकता? में चुप रहा सीमा ने फिर कहा क्या में तुम्हे पसंद नहीं हूँ? मैंने कहा नहीं सीमा ऐसी बात नहीं है तुम बहुत अच्छी लडकी हो.

सीमा ने ”कहा”  तो ठीक है फिर आज से और अभी से में तुम्हारी बीवी हूँ समझे मुझे कुछ नहीं

सुनना बीवी हूँ मतलब हूँ, एक पल के लिए मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे सामने काजल ही खड़ी हो,और में एक झटके में, ही काजल की यादों से जैसे बाहर आ गया था, 1 महीने बाद हम दोनों ने शादी कर ली.

में सीमा को सीमा समझकर नहीं बल्कि काजल समझके प्यार करने लगा, उसकी कुछ आदतें काजल से बहुत मिलती थीं, इसलिए मुझे लगता की मेरे सामने सीमा नहीं काजल है, दिन बीतते चले गए हमारा प्यार बढ़ता चला गया, लेकिन मुझे पता नहीं था ये प्यार एक धोखा है .

एक रात में और सीमा दोनों अपने कमरे में सोये हुए थे की अचानक दरवाजे पर दस्तक हुई, सीमा गहरी नींद में सोई हुई थी, लेकिन मेरी आंख उस दस्तक से खुल गई मैंने दरवाजा खोला, तो सामने क्या देखता हूँ काजल खड़ी है, मैंने काजल को देखते ही गले से लगा लिया.

गुस्सा था लेकिन उससे भी ज्यादा खुश की मेरी काजल को भगवान ने मेरे पास भेज दिया, में मन ही मन में भगवान को धन्यवाद दे रहा था. काजल ने मुझसे कहा राजेश क्या तुम मुझे भूल गये थे ?

और क्या तुम मुझसे ये नहीं पूछोगे की में इतने दिन कहाँ थी? मैंने फिर से उसे अपने गले से लगाया, और कहा नहीं में ये नहीं पूछुंगा की तुम इतने दिन कहाँ थीं.

मेरे लिए इतना ही बहुत है की तुम मेरे पास आ गई. ”उठिए राजेश कहते हुए सीमा ने मुझे जगाया” मेरी नींद खुली मैंने अभी काजल को सीने से लगाया हुआ था, क्या वो सपना था?

सोचते हुए में तैयार होकर ऑफिस के लिए निकल गया, में ऑफिस आज ऑटो से जा रहा था, रस्ते में एक लड़की खड़ी थी जो, ऑटो को रोकने का इशारा कर रही थी.

ऑटो वाले ने ऑटो रोका और मैंने देखा की ये तो काजल है, काजल उसी ऑटो में मेरे साथ आकर बैठ गई, मैंने काजल से कहा में तो सपना देख रहा हूँ सोच रहा था ? लेकिन तुम सचमुच में मेरी जिंदगी में फिर से लौट आई हो.

काजल ने कोई जबाब नहीं दिया वो चुपचाप बैठी रही, थोड़ी देर बाद काजल ने मुझसे पूछा” तुम सीमा से प्यार करते हो की मुझसे?  मैंने कहा में तो हमेशा से ही तुमसे प्यार करता रहा हूँ, और हमेशा करता रहूंगा.

तो फिर उससे शादी क्यूँ की कहते हुए काजल की आँखें भर आईं में ऑफिस जा रहा था, लेकिन काजल की इस बात को सुनकर मैंने ऑटो वाले को काजल के घर की तरफ ऑटो मोड़ने को कहा, और काजल से मेंने कहा”

चलो तुम्हारे घर पर चलकर तुम्हे इत्मीनान से सारी बात बताऊंगा  और थोड़ी ही देर में

ऑटो काजल  के घर के सामने जा रुका.

यह भी पढ़ें:

रोंगटे खड़े कर देने वाली सच्ची घटना 

क्या भूत सचमुच में होते हैं

मैं ऑटो वाले को पैसे दे रहा था. इतने में काजल अपने घर के वरांदे में जाकर बैठ गई, मैंने देखा काजल के, घर पर जो ताला लगा हुआ है उसपर बहुत मिटटी लगी है.

मानो सालों से ना खुला हो ताला, क्या तुम यहाँ की सफाई नहीं करतीं देखो कितनी धुल मिटटी लगी है, में ताले की मिटटी को  झाड़ते हुए बोला, लाओ चाबी दो मुझे में ताला खोलता हूँ, कहते हुए चाबी मांगने के लिए मैंने काजल की तरफ हाथ बढाया.

उसने गुस्से में कहा-मुझे नहीं पता चाबी कहाँ है खुद ढूँढ लो, कहते हुए दूसरी तरफ मुह करके बैठ गई, में गार्डन में जाकर चाबी ढूँढने लगा तभी मुझे घास के अन्दर छुपी हुई चाबी मिली, चाबी में जंग लगा हुआ था ये देखकर मैंने फिर काजल से पूंछा काजल अब तो तुम यहाँ रहती हो, फिर ये क्या चाबी में जंग क्यूँ लगा है? जैसे इस्तेमाल ही ना होती हो.

और ताले पर भी बहुत धुल लगी हुई है, बात कुछ समझ नहीं आई. ”कहते हुए”  मेने ताला खोला, ताला खोलते ही अंदर से बदबू आने लगी.

इतने में काजल वहां से उठकर पता नहीं कहाँ चली गई, मैंने सोचा सायद गुस्सा होकर गार्डन में जाकर बैठ गई होगी, में आवाजें लगाने लगा काजल कहाँ हो तुम, अरे बीवी जी तुम कुछ काम मत करना सारा काम में ही करूंगा, फिर भी काजल काजल की तरफ से कोई जबाब नहीं आया.

में कमरे में दाखिल हुआ वहां किसी का कंकाल पड़ा हुआ था, जैसे ही मैंने उसके हाथ की घडी देखी तो में हेरान रह गया. ये वही घडी थी जो कुछ साल पहले मैंने काजल को उसके जन्मदिन पर दी थी.

इसका मतलब ये काजल का मुझसे आगे के सब्द बोले नहीं जा रहे थे, लेकिन ऐसा कैसे हो सकता है, काजल तो अभी मेरे पास थी, मेरी तो समझ में ही नहीं आ रहा था की आखिर क्या चक्कर है.

तभी काजल मेरे सामने आई और रोने लगी और कहने लगी की हाँ राजेश ये जो कंकाल है, ये मेरा ही है, में तुमसे बहुत दूर जा चुकी हूँ, ये सुनकर में सन्न रह गया.

फिर काजल कहा  क्या तुम जानना नहीं चाहोगे, की ये कैसे और किसने किया? मैंने कहा काजल मुझे बताओ जिसने भी तुम्हे मुझसे दूर किया है, में उसको सजा दिलवाऊंगा.

”काजल गुस्से में बोली” वो और कोई नहीं  सीमा है, ये सुनकर मेरे पेरों तले ज़मीन निकल गई, काजल ने बताया की जब तुम ऑफिस के काम से मुबई गए थे, तो उसी शाम सीमा मेरे घर आई थी.

और उसने मुझसे कहा की में ”राजेश से प्यार करती हूँ”  तुम बीच से हट जाओ, मैंने कहा क्या राजेश भी तुम्हे प्यार करता है? तो उसने कहा अगर नहीं करता तो धीरे-धीरे करने लगेगा, अगर तुम हमारे बीच से हट जाओ तो, और उसने मुझे जबरजस्ती ज़हर पिला दिया.

में रोती रही उसके सामने भीख मांगती रही की मुझे छोड़ दो हम तो दोस्त हैं, तो उसने कहा तू मेरी दोस्त नहीं सोतन है अगर तू ना रहेगी तो राजेश को मुझसे प्यार करना ही पडेगा.

उसने मुझे ज़हर पिला कर घर में बंद कर दिया और बाहर से ताला लगाकर चाबी बाहर फेंक दी, अब में उसे मारकर अपनी मौत का बदला लुंगी तुम्हारे लिए ही मेरी आत्मा भटक रही थी, की जो भी मेरे साथ हुआ उसे में तुम्हे बता सकूँ.

मैंने काजल से कहा काजल तुम उसे मत  मारना में उसको कानून से सजा दिलाऊंगा, गुस्से में काजल मुझसे कहने लगी, नहीं में खुद उसे मरूंगी मैंने कहा नही मेरी काजल कभी किसी को मारने के बारे नहीं सोच सकती.

मेरी इस बात को सुनकर काजल रोने लगी और कहने लगी मुझे दुःख बस इस बात का है, की में तुम्हारे साथ रहना चाहती थी तुम्हारे साथ जिन्दगी का हर पल बिताना चाहती थी, जो अब कभी नहीं होगा और में तुमसे बहुत दूर हो गई.

मैंने कहा काजल तुम ही मेरा पहला प्यार हो, और आखिरी भी तुम ही रहोगी में तो हमेशा तुमसे ही प्यार करता रहूंगा.

मेरे ऐसा कहते ही काजल एक चमकीली रौशनी में खो गई और में रोता रह गया, अब में घर आया सीमा ने कहा हाथ मुह धो लो में खाना लाती हूँ.

मैंने कहा तुम मेरी काजल की हत्यारी हो तुम्हे में कभी माफ़ नहीं करूँगा तो सीमा रोने लगी, और कहने लगी तुम तो मुझसे प्यार करते हो ना, मैंने कहा प्यार में बस काजल से करता था.

तुमसे जो था वो तो तुम्हारा बनाया हुआ षड़यंत्र था, प्यार नहीं था, अब तुम्हे में कानून से सजा दिलवाऊंगा कहते हुए में पुलिस स्टेशन आ गया और मैंने सारी कहानी पुलिस को बता दी,

पुलिस को काजल के घर से सारे सबूत भी मिल गये, पुलिस ने सीमा को गिरफ्तार कर लिया और अदालत ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई, मुझे सीमा को सजा दिलवा कर बहुत सुकून मिला मैंने शादी नहीं की और ना आने वाले समय में करूँगा में सिर्फ काजल से ही प्यार करता हूँ.

और हमेशा उसी से प्यार करता रहूंगा काजल की जगह में किसी और को नहीं दे सकता कभी नहीं.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button