ग़ज़ल

Letest Hindi Ghazal Poetry Collection For Love 2019

क्या आप ढूंढ रहे हैं Letest Hindi Ghazal Poetry Collection For Love 2019 अगर हाँ तो आप बिलकुल सही जगह आये हैं, आपको नया नया प्यार हुआ हो या आपका दिल टूटा हो या किसी को मन ही मन चाहते हैं पर कह नहीं पाते ऐसे में आपके लिए Ghazal एक Best Option है उनको Impress करने का जिन्हें आप दिलो जान से चाहते हैं, आप यहाँ पढ़ सकते हैं Sad Poetry, Sad Poetry Sms, Ghazal In Hindi,Sad Gazal


💖Ghazal Hindi💖

कभी हँसी लबों पर कभी आँखों में नमी सी है

मेरी जिंदगी में एक तेरी ही कमी सी है,

हमने चाहा है तुम्हे बड़ी सिद्दत से,

लब सिल गए थे हमारे एक मुद्दत से,

ज़ख्म-ए-दिल पर अभी एक और चोट लगी सी है

मेरी इस जिंदगी में एक तेरी कमी सी है,

साथ नहीं है तू मगर तेरी यादें हैं

रहगुज़र पर तेरी मंजिल के, कुछ साये हैं,

तेरे बिना मेरी बेसहारा जिंदगी, आज थम सी गई है

मेरी इस जिंदगी में एक तेरी ही कमी सी है,

मेरी खामोशियों की सदा सुन ना सके तुम

मेरी नजरों को भी कभी पढ़ ना सके तुम,

दिल के इतने करीब होकर भी
तू मुझसे अजनबी सा है,

हम बेवफा ना थे ये कैसे यकीं दिलाएं

तू कहे तो तेरे क़दमों में आज मर जाएँ,

तू जिंदगी,तू तिश्नगी,तू दर्द,तू ही ख़ुशी भी

मेरी जिंदगी में एक तेरी कमी सी है कमी सी है…


Ghazal Hindi


💖GHAZAL FOR LOVER💖

एक आंशू गिरा मेरे दामन में

कुछ समझे नहीं, हुआ क्या था,

जो तुम अब मुझे पूंछ रहे थे

वो में खुद से पूंछा करता था,

जब उगते दिन के दामन में

वो खुसबू महका जाती थी,

जब सुबह संभाले आँचल वो

सामने से गुजर कर जाती थी,

फिर अंधियारे की चादर को

वो चुपके से पहनाती थी,


 

ROMANTIC POETRY IN HINDI


!!ROMANTIC POETRY IN HINDI!!

मुसाफिर हैं बेखबर तेरी आँखों से

तेरे सहर में मैखाने ढूँढते हैं,

तुझे क्या पता ए सितम ढाने वाले

तेरे दिए हुए ज़ख्मों में

प्यार के नजराने ढूँढते हैं,

निकल आते हैं हंसते-हंसते अश्क

हम तो रोने के बहाने ढूँढते हैं,

किताबों में मेरे फ़साने ढूँढते हैं

नादां हैं गुजरे ज़माने ढूँढते हैं,

जब वो थे तलाश-ए-जिंदगी भी थी

अब तो मौत के ठिकाने ढूँढते हैं,

कल खुद ही अपनी महफ़िल से निकाला था

आज हुए दीवाने ढूँढ़ते हैं….


Letest Hindi Ghazal Poetry Collection For Love 2019

!!ROMANTIC POETRY IN HINDI!!


Ghazal Hindi Shayari

दिल ने उसके बारे में पूंछा तो बहुत रोया

वो शक्श जो पत्थर था टूटा तो बहुत रोया,

में दिल की जुदाई के उन्वान पे बरसों से

चुप था तो चुप रहा,रोया तो बहुत रोया,

एक हर्फ़ तसल्ली का एक हर्फ़ मोहब्बत का

खुद अपने लिए उसने लिखा तो बहुत रोया,

पहले ही सिकश्तों पे खाई थी सिकश्त मैंने

लेकिन तेरे हाथों हारा तो बहुत रोया,

आसान तो नहीं अपनी हस्ती से गुजर जाना

उतरा जो समुन्द्र में दरिया तो बहुत रोया,

जो शक्श ना रोया था कभी तपती राहों में

दीवार के साए में बैठा तो बहुत रोया,

मुझे अपनी बर्बादी का गम नहीं था लेकिन

उसके बर्बाद होने का सुना तो बहुत रोया..


Ghazal Hindi Shayari

!! Ghazal Hindi Shayari !!

हम तो कमजर्फ हैं आंसू को गिरा देते हैं

वो तो समुन्द्र हैं दरिया को पनाह देते हैं,

बच के रहना वफा के वादों से

लोग ज़ालिम हैं खुदा को भी भुला देते हैं,

में क्या समझूंगा के वो आदमी हैं कैसे

जब भी खामोश हों ओरों को रुला देते हैं,

कभी मालूम करो फूल जो मुरझाते हैं

हिज्र में वो यूँ खुद को सजा देते हैं,

जिनकी किस्मत में दुखों की बरसात हो

ज़ख्म खाकर भी वही लोग दुआ देते हैं..


 
Ghazal Hindi Shayari



!! Hindi Ghazal Poetry !!

हम चाहें भी तो तुम्हे भुला नहीं सकते

तेरी यादों से दामन छुडा नहीं सकते,

हाँ तुम मेरे दिल में रहते हो

फिर भी ये फासले मिटा नहीं सकते,

दोस्त तो तुझे बना ही लिया जिंदगी भर के लिए

अब किसी और को दोस्त बना नहीं सकते,

नहीं डरते हम ज़ालिम दुनिया से

मगर देख कर तेरी सादगी हम

नज़रें उठा नहीं सकते,

तेरे बिन एक पल जीना नामुमकिन है

तुझे याद करते हैं इतना की

हम बता नहीं सकते।।


Hindi Ghazal Poetry

Hindi Ghazal Poetry

एक पल भी चैन से गुजारा हो तो

‘’कसम ले लो’’

सिवाए यादों के कोई और सहारा हो तो

‘’कसम ले लो’’

पहले तो बात और थी जो तुमपे हक जताते थे

अब खुद पर भी कोई हक हमारा हो तो

‘’कसम ले लो’’

तुम्ही ने कहा था की तुम्हारे लबों पर मेरा नाम आये

उसके बाद जो लिया हो किसी का नाम तो

“कसम ले लो’’


Sad Poetri

!!😌Sad Poetri😌!!

गुनगुनाते आँचल की हवा दे मुझको

उंगलियाँ फेर के बालों में सुला दे मुझको,

 

मुझे याद करके तकलीफ ही होती होगी

एक किस्सा हूँ पुराना सा भुला दे मुझको,

 

डूबते-डूबते आवाज तेरी सुन जाऊँ

आखिरी बार तो साहिल से सदा दे मुझको,

 

में तेरे गम में चुपचाप ना मर जाऊँ कहीं

में हूँ सकते में कभी आके रुला दे मुझको,

 

देख में हो गया बदनाम किताबों की तरह

मेरी आस ना कर अब तू जला दे मुझको


!! Ghazal in Hindi Of Love !!

हर शक्श की किस्मत में नहीं होता प्यार का मौसम

हर शक्श को दुनिया में मोहब्बत नहीं मिलती,

 

हर शक्श मुक़द्दर का सिकंदर नहीं होता

हर शक्श के लफ़्ज़ों को अकीदत नहीं मिलती,

 

वो ख्वाब कभी ख्वाब का दर्जा नहीं पाते

जिस ख्वाब के ताबीर की नेमत नहीं मिलती,

 

तू मेरे मुक़द्दर का तमाशा ना बना

हर शक्श को मांगने से ग़ुरबत नहीं मिलती,

 

उस शक्श की उल्फत में गिरफ्तार है ये दिल

जिस शक्श को मेरे लिए फुर्सत नहीं मिलती,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button